सपा,भाजपा,की लड़ाई मे टास हुआ उछलवाई,किसी ने नही जीता चुनाव तकदीर ने छलांग लगाई – UP News Express

UP News Express

Latest Online Breaking News

सपा,भाजपा,की लड़ाई मे टास हुआ उछलवाई,किसी ने नही जीता चुनाव तकदीर ने छलांग लगाई

😊 Please Share This News 😊

जौनपुर ब्यूरो चीफ,, सुनील मिश्रा

महराजगंज, जौनपुर। जिले के इस ब्लॉक प्रमुख चुनाव में लड़ाई बड़ी रोचक थी। उसका कोई एक कारण नहीं था बल्कि अनेक प्रकार के कारण थे। अगर कारण को देखें तो इस चुनाव में एक ही परिवार के बहू व ककिया ससुर के बीच आमने सामने लडाई रही ।
जनता की देखें तो इस लड़ाई में तीन उम्मीदवारों में एक प्रत्याशी ने अपना समर्थन सपा प्रत्याशी को दे दिया था।
इतना ही नहीं बल्कि भाजपा की पूर्व प्रमुख की तरफ जहां सत्ता पक्ष के वर्तमान विधायक रमेशचंद्र मिश्रा व समर्थक पूरे तन मन से भाजपा को यह जीत दिलाने में लगे थे, वहीं विपक्ष में बदलापुर विधानसभा के पूर्व विधायक ओमप्रकाश दूबे”बाबा” भी जी जान से समर्थकों के साथ लगे थे । लड़ाई पूरे जोर शोर से लड़ी गई पर यहां कीसी की जीत नही हुई मामला बराबरी पर आकर अटक गया। दोनों पार्टियों के लीडरों ने हर संभव सहयोग किया जो काविले तारीफ योग्य है।
अगर जनता की देखें तो चुनावी लड़ाई में नही हुए सपा से प्रत्याशी बने पे हरिश्चंद्र सिंह को पूर्व विधायक ने चुनावी लड़ाई मे जहां मजबूती में ला दिए, लेकिन उसपर भी अटकलें लगातार लगी रहीं, वही हालत भाजपा की प्रत्याशी का भी रहा, पूरे तैयारियों व जोरआजमाइश पर भी रूझान को कोई नहीं माप पा रहा था, इतना ही नहीं लड़ाई ने करवट उस समय ले लिया जब निर्दलीय उम्मीदवार रोहित सिंह ने पूर्व विधायक के प्रभाव और सम्मान में सपा प्रत्याशी को अपना समर्थन दे दिए तो उस समय उहापोह की स्थिति माहौल रोचकता बढ़ गई।

अब अगर टास उछलवाई में जीत को देखा जाय तो भाजपा नेता की पत्नी के जीत का श्रेय चाहे तकदीर को कह सकते हैं या निर्वाचित प्रमुख के पति विनय कुमर सिंह का मिलनसार स्वभाव, या ब्यक्तियों व समाज में मिलने वाले सरल स्वभाव के कारण लोगों के आशीर्वाद ने कही न कही तकदीर का ही रुख अपनी तरफ मोड़ लिया । अगर हार को देखा जाय तो लोग कहते हैं कि तकदीर इतनी जल्दी नहीं बदलती किसी-किसी के तकदीर मे कुछ समय लग जाता है। यही सायद सपा प्रत्याशी के साथ हुआ हो,
जनता की मानें तो राय हरिश्चंद्र सिंह का राजनीति में नया कदम रखने के बाद पूर्व विधायक का प्रभाव ही सपा प्रत्याशी का चुनाव को रोचक बनाया, या हो सकता है आनेवाले समय में कुछ और ही मुकर्रर कर रहा हो।
आगर ब्लाक प्रमुख चुनाव के जीत हार का आकलन किया जाए तो युवा पत्रकार सुनील मिश्रा कभी कभी एक वाक्यांश कहतें हैं,,,
“न कोई जीता, न तो कोई हारा, यहां लड़ाई कुछ और हो गई साहब यहां तो तकदीर ने अपना पेंच मारा।”
जीत हार सब लगा रहता है पर सही मायने में प्रतिनिधियों के काम ही क्षेत्र में जनता अपनी जुबान पे बोलाती है बुरा करें तो बुरा,अच्छा करें तो अच्छा।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे

Donate Now

[responsive-slider id=1466]

लाइव कैलेंडर

October 2021
M T W T F S S
 123
45678910
11121314151617
18192021222324
25262728293031
error: Content is protected !!